रामकृष्ण मिशन की स्थापना किसने की थी

राम कृष्ण का जन्म 1834 ईसवी बंगाल के एक छोटे से गांव में हुआ था कम उम्र में ही उनका विवाह श्रद्धामनी से हुई थी यह भारतीय विचार एवं संस्कृति में गहरी आस्था रखते थे वे सभी धर्मों के सत्य मानते थे वें मूर्ति पूजा में विश्वास करते थे और यह मानते थे कि मूर्ति पूजा ईश्वर प्राप्ति का एक माध्यम है नरेंद्रनाथ दत्त इनके प्रिय शिष्य नरेंद्रनाथ दत्त ने रामकृष्ण के  शिक्षाओ का प्रसार किया । राम कृष्ण की मृत्यु 886 में हो गई थी ।
raamakrshn mishan kee sthaapana kisane kee thee

विवेकानंद

इनका बचपन का नाम नरेंद्र नाथ दत्ता भूपेंद्र नाथ दास विवेकानंद के बड़े भाई थे विवेकानंद के जन्म 1863 ईस्वी में बंगाल में हुआ था । उन्होंने वैदिक शिक्षा तथा भारतीय संस्कृति का विश्व में प्रसार किया । 1893 ईस्वी में यूएसए के शिकागो में होने वाले विश्व सम्मेलन संसद में विवेकानंद ने भाग लिया था। उन्होंने यह कहा कि पश्चिम के भौतिकवाद तथा पूर्व की आध्यात्मिकता के मिश्रण से एक नई मनुष्यता जन्म ले सकती है 1893 ईसवी से 1896 ईसवी तक विवेकानंद पश्चिम के देशों में वैदिक शिक्षा के प्रचार करते रहे 1896 ईस्वी में भारत लौटा तथा 1897 ईस्वी में कोलकाता के वेल्लूर मठ में रामकृष्ण मिशन की स्थापना की । इसकी स्थापना का मुख्य लक्ष्य मानव का सेवा करना था विवेकानंद के अनुसार ईश्वर के सच्ची पूजा मनवाता की सेवा के द्वारा ही की जा सकती है वह पक्के भक्त भी थे ।
सुभाष चंद्र बोस ने यह कहा था जहां तक बंगाल का संबंध है हम विवेकानंद को आधुनिक राष्ट्रीय आंदोलन का आध्यात्मिक पिता को सकते हैं 1902 ईसवी में विवेकानंद की मृत्यु हो जाती है ।